Advertisement

परिस्थितियों को दोष  मत दो

Imag by pixabay.com

Spread the love

परिस्थितियों को दोष  मत दो

एक समय की बात है एक गांव में एक गुरु और शिष्य रहते थे एक बार वह टहलने जा रहे थे तो उन्हें रास्ते में प्यास लगी  उन्होंने इधर उधर देखा तो  झोपड़ी दिखाई दी थी उस झोपड़ी की तरफ बढ़े और देखा कि उसमें से एक आदमी और एक औरत निकली उसके तीन बच्चे फटे पुराने कपड़े पहने हुए बाहर निकले गुरुजी ने कहा क्या पानी मिल सकता है उस आदमी ने गुरु जी को पानी पिलाया और आराम करने को कहा

Advertisement

तो उन्होंने पूछा कि आप क्या करते हैं उस आदमी ने बताया कि मैं कुछ नहीं करता हूं मेरी एक भैंस है उसी में अपनी जीविका चलाते हैं लेकिन गुरु जी ने देखा कि उसकी बहुत बड़े खेत हैं बगल में और उसमें कुछ भी नहीं बोया हुआ था तो उन्होंने तो उन्होंने पूछा यह खेत किसका है आदमी ने बताया मेरा ही खेत है तो गुरु जी ने प्लान बनाया कि आज रात हम यहीं पर गुजारेंगे और सुबह चले जाएंगे उस आदमी ने कहा ठीक है गुरु जी दोनों ने उनकी व्यवस्था कर दी और वहीं पर रुक गए जब आधी रात गुजर गई तो  गुरु जी ने कहा कि आज उसकी भैंस को हमे  अपने साथ लेकर चलना होगा तो उसने सोचा कि गुरु जी आज मुझे ऐसा गलत काम क्यों करवा रहे हैं तो उन्होंने कहा कि कुछ नहीं यह सही काम है  हम जंगल में छोड़ देंगे

Image by pixabay.com

फिर आधी रात को गुरु जी ने उसकी भैंस को लेकर बहुत दूर चले गए और वहां उसे जंगल में छोड़ दिया जहां से वह भैंस वापस ना लौट सके उसके बाद 10 साल गुजर गए 10 साल बाद गुरु जी के शिक्षा उसी तरफ से गुजर रहे थे आलीशान मकान लहलहा देखें जब देखा तो सोचा कि वह आदमी शायद अपना घर द्वार बेचकर चला गया होगा  देखा कि वह आदमी बाहर बाहर आया  बहुत अच्छा है कपड़ा अच्छा पहना हुआ है तो उसने कहा कि आप हमें  पहचान रहे हैं आप वही है जो गुरुजी के साथ आए थे कि हां मैं वही हूं हमारे गुरुजी आपके यहां रुके हुए थे और हम भी रुके थे अच्छा हां उसी दिन हमारी जो है भैंस गायब हो गई थी

हमें पता नहीं चला कि क्या हो गई आज तक नहीं मिली तो हमारा कोई और रास्ता ही नहीं था तो हमने अपने खेतों में काम करना शुरू किया फसल बोना शुरू कर दिया और आज आम की खेती करना शुरू कर दिया और आम हमारा  लोग  खरीदने लगे जिससे हमारी जीविका चलने लगी और काफी हमारे बच्चे भी पढ़े और उन्हें कपड़ा घर द्वार हमें सब इसी खेत से बना लिया है और अगर भैंस होती तो हम उसी में अपना जीविका चलाते रहते!

दोस्तों इस कहानी से आपको क्या शिक्षा मिलती है परिस्थितियों के लोग दोष देते हैं और ऐसा मत कीजिए यदि आपके पास भी ऐसी कोई भैंस हो तो उसे भी आप छोड़ दीजिए और अपने हर काम को ईमानदारी और सही ढंग से कीजिए अक्सर आप उन्ही में से अच्छा बन सकते हैं उस आदमी की तरह कहीं आप भी गरीबी की ठोकर से जूझ रहे हो इस कहानी को शेयर कीजिए!

Advertisement
RAM VILAS: रामविलास जी का मानना है कि तकनीक डरने की नहीं सीखने की चीज है। इसके बारे में आप जितना जानेंगे उतनी ललक बढ़ेगी। इसी ललक और सीखने की चाह ने इन्हें तकनीकी जगत से जुड़ने के लिए प्रेरित किया। रामविलास ने अपने करियर की शुरुआत 2018 यूट्यूब से की थी और वर्ष 2020 में ये Website Blogs से जुड़े। इन्हें न सिर्फ टेक न्यूज की अच्छी समझ है बल्कि टिप्स एंड ट्रिक्स और रिव्यू में भी अच्छी जानकारी भी है। अब रामविलास vzonealert.in के साथ जुड़े हैं यहां भी कुछ नया करने की सोच के साथ काम कर रहे हैं। (CEO, CO-FOUNDER)
Advertisement